प्री प्राइमेरी

<< 1 2 3 4>>
murga

मुरगा बोला कूकडू-कू ,चिडि़यां बोली चूं.....

आओ करे दाँतो में मंजन

munni

इक दिन मुन्नी लगी सोचने होते पंख तो मैं उड जाती

अंगूठे ने कहा बाग मैं चले

रंगों का है बड़ा कमाल

doctor

डाॅक्टर देखो भली प्रकार मेरी गुडि़या पड़ी बीमार....

hari daal

हरी डाल पर किसका घर....

दादा मेरे अच्छे है, मन के कितने सच्चे हैै......

हुआ सवेरा चिडि़या बोली.......

ये है मेरे अच्छे पापा, ये है मेरी प्यारी माँ....